बायर क्रॉपसाइंस ने अपना पहला ड्रोन परीक्षण किया

बायर क्रॉपसाइंस लिमिटेड ने हैदराबाद के पास चंदीपा में अपने बहु-फसल प्रजनन केंद्र में अपना पहला ड्रोन परीक्षण किया है। कंपनी का कहना है कि कृषि में ड्रोन के उपयोग में कृषि क्षेत्र में क्रांति लाने और देश के किसानों को विशेष रूप से छोटे धारकों को सूचना और अनुप्रयोगों के साथ सशक्त बनाने की क्षमता है जो उन्हें लंबे समय में अपनी पैदावार और आय बढ़ाने में मदद करेंगे

बायर क्रॉपसाइंस ने  अपना पहला ड्रोन परीक्षण किया

बायर क्रॉपसाइंस लिमिटेड ने हैदराबाद के पास चंदीपा में अपने बहु-फसल प्रजनन केंद्र मे अपना पहला ड्रोन परीक्षण किया है। बायर ने अभिनव ड्रोन स्टार्ट-अप जनरल एरोनॉटिक्स प्राइवेट लिमिटेड के साथ भागीदारी की है और किसानों को ड्रोन-आधारित सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए डेटा उत्पन्न करने के लिए विश्वविद्यालयों और केंद्रीय अनुसंधान संस्थानों के साथ कई इन-हाउस और बाहरी आरएंडडी परीक्षण किए हैं।

इस अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा,मुझे यह जानकर बहुत खुशी हो रही है कि बायर कृषि में ड्रोन के उपयोग पर एक पायलट प्रोजेक्ट किया है। भारत के कृषि विकास और परिवर्तन के लिए इस तकनीक के लिए बायर कंपनी के प्रयासों की सराहना करता हूं और अपनी शुभकामनाएं देता हूं। कंपनी ने एक बयान में मंत्री के हवाले से कहा कि, भारत प्रौद्योगिकी और डिजिटलीकरण में बड़ी प्रगति कर रहा है. कृषि उद्देश्यों के लिए इन्हें अपनाना किसानों को समृद्ध करने के सरकार के प्रयासों की दिशा में अगला कदम है।  कंपनी ने एक बयान में मंत्री के हवाले से कहा कि, भारत प्रौद्योगिकी और डिजिटलीकरण में बड़ी प्रगति कर रहा है. कृषि उद्देश्यों के लिए इन्हें अपनाना किसानों को समृद्ध करने के सरकार के प्रयासों की दिशा में अगला कदम है.दरअसल

कृषि में ड्रोन के उपयोग में कृषि क्षेत्र में क्रांति लाने और देश के किसानों को विशेष रूप से छोटे धारकों को सूचना और अनुप्रयोगों के साथ सशक्त बनाने की क्षमता है जो उन्हें लंबे समय में अपनी पैदावार और आय बढ़ाने में मदद करेंगे।

भारत में जैसे किसान खेती के अलावा भी कई चीजों से जुड़ा हुआ है, ठीक वैसे ही खेती भी कई चीजों से जुड़ी है. इसमें कई लोगों की एक साथ मेहनत होती है, इसलिए यह पूरी तरह से टीमवर्क है। लेकिन खेती शब्द जितना बोलने में आसान है, यह हकीकत में उतना ही मुश्किल है. हालांकि सरकार किसानों को मद्देनजर रखते हुए कई कदम उठा रही है, लेकिन क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि कई घंटे धूप और अलग-अलग वातावरण में किसान अपने पूरे खेत की देखभाल केवल अपने बलबूते पर करता है।

वहीं कृषि में ड्रोन के उपयोग से कृषि कार्यों में क्रांति आएगी और किसानों, विशेष रूप से छोटे किसानों को सूचना और अनुप्रयोगों के साथ सशक्त बनाया जाएगा. जो उन्हें लंबे समय में अपनी पैदावार और आय बढ़ाने में मदद करेंगे।

बायर कंपनी के दिए गए बयान के मुताबिक, ड्रोन खेती की प्रारंभिक उपलब्धियों के आधार पर, उत्पादक भविष्य में धान, मक्का, गन्ना, गेहूं, सब्जियां, फल और रोपण फसलों और फसल की सहायता में प्रौद्योगिकी की क्षमताओं का पता लगाने में सक्षम हो सकते हैं. जबकि छोटे किसानों के समर्थन और खाद्य सुरक्षा को बढ़ावा दे सकते हैं।