किसान सेठपाल सिंह और महालिंग नाइक को पद्मश्री सम्मान के लिए चुना गया जानिए कृषि में इनका क्या है योगदान

देश के सबसे बड़े पुरस्कारों में से एक पद्म पुरस्कारों का ऐलान हो गया है. इस साल पद्म विभूषण के लिए कुल चार नामों का चयन किया गया है, जबकि 17 हस्तियों को पद्म भूषण के लिए चुना गया है। इसके अलावा पद्म श्री सम्मान के लिए 107 नामों का चयन किया गया है।दो प्रगतिशील किसानों के लिए पद्म श्री पुरस्कारों की भी घोषणा की गई है। इनमें कर्नाटक के मैंगलोर के टनल मैन अमाई महालिंग नाइके और उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले के नंदी, फिरोजपुर गांव के सेठपाल सिंह को चुना गया है.

किसान सेठपाल सिंह और  महालिंग नाइक को पद्मश्री सम्मान  के लिए चुना गया जानिए कृषि में इनका क्या है योगदान

गणतंत्र दिवस से एक दिन पहले देश के सबसे बड़े पुरस्कारों में से एक पद्म पुरस्कारों का ऐलान हो गया है. इस साल पद्म विभूषण के लिए कुल चार नामों का चयन किया गया है, जबकि 17 हस्तियों को पद्म भूषण के लिए चुना गया है। इसके अलावा पद्म श्री सम्मान के लिए 107 नामों का चयन किया गया है।दो प्रगतिशील किसानों के लिए पद्म श्री पुरस्कारों की भी घोषणा की गई है। इनमें कर्नाटक के  दक्षिण कन्नड़ जिला मंगलूर के टनल मैन अमाई महालिंग नाइक और उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले के नंदी फिरोजपुर गांव के सेठपाल सिंह को चुना गया है। यह पुरस्कार मार्च-अप्रैल में राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक समारोह में प्रदान किया जाएगा। सेठपाल सिंह को कृषि में अपने अभिनव प्रयोगों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर पहले ही कई पुरस्कार मिल चुके हैं।

नये प्रयोग औऱ विविधिकरण माहिर है, प्रगतिशील किसान सेठपाल सिंह

सेठपाल सिंह के छोटे भाई विनोद कुमार ने बताया कि 54 वर्षीय किसान सेठपाल सिंह के 6 भाइयों के परिवार के पास करीब 40 एकड़ जमीन है वे पहले पारंपरिक खेती करते थे। साल 1995 में खेती में  उन्हे कुछ नया करने का विचार आया तो उन्होंने सहारनपुर के कृषि विज्ञान केंद्र में जाना शुरू कर दिया  जहां उन्होंने कृषि वैज्ञानिकों से विभिन्न नवीन कृषि विधियों के बारे में सीखा। विनोद कुमार ने कहा कि सेठ पाल सिंह की अच्छी बात है, खेती में कुछ भी नया प्रयोग करने से नहीं डरते क्योंकि उनका मानना ​​है कि किसान तब तक आगे नहीं बढ़ेंगे जब तक वे कुछ नया नहीं करते हैं।

सेठपाल सिंह ने शुरू में पारंपरिक फसलों के साथ-साथ अन्य फसलों जैसे फल, फूल और सब्जियों की खेती शुरू की लेकिन केवीके के प्रशिक्षण और कार्यशाला के बाद कुछ अलग करने की उनकी रुचि बढ़ गई। उन्होंने कृषि विविधीकरण को अपनाया। उन्होंने तालाबों के बजाय अपने खेतों में सिंगाड़ा की खेती की है और अच्छा मुनाफा भी कमाया है। वे कभी पुआल नहीं जलाते हैं उनकी मिट्टी में पोषक तत्वों की कमी नहीं होती है। उन्होंने अपने खेतों में वर्मीकम्पोस्टिंग यूनिट नेडेप कम्पोस्ट की स्थापना की है।

सेठपाल वर्षों से बहुफसली और रिले फसल करते हैं । सब्जी की फसलों में करेले के बाद लौकी और फिर पालक की खेती करते हैं। एक साल तक वह इस तरह से एक के बाद एक सब्जी की खेती करता रहा और इससे उसे लगभग चार लाख रुपये प्रति एकड़ का मुनाफा होता है। इसे देख उस क्षेत्र के अन्य किसानों ने भी इसे अपनाया। सेठपाल खेतों में कमल के फूल, मछली पालन, पशुपालन, सब्जियों के साथ-साथ मशरूम की खेती करते हैं। इसके अलावा उन्होंने अंतरफसल खेती के तरीकों को अपनाकर अपने क्षेत्र किसानों के लिए काफी काम किया है। वे गन्ने की फसल के साथ-साथ फ्रेंच बीन, उड़द, मूंग, प्याज, सौंफ, आलू, सरसों, मसूर और हल्दी की सह-फसल की खेती कर रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने जैविक खेती में भी काफी योगदान दिया है।

मंगलवार को गांव में जैसे ही पद्मश्री की खबर पहुंची तो खुशी की लहर दौड़ गई। किसान सेठपाल सिंह ने कहा कि उन्होंने खुद उन्नत खेती की लेकिन अन्य किसानों को भी जागरूक किया। खेती में नई तकनीक के साथ उनकी कड़ी मेहनत के परिणामस्वरूप उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया है।

पद्म श्री पुरस्कार के लिए चयनित प्रगतिशील किसान सेठपाल सिंह को अब तक वर्ष 2012 में आईसीएआर से अभिनव किसान पुरस्कार, जगजीवन राम अभिनव किसान पुरस्कार मिल चुका है। वर्ष 2020 में आईसीएआर और फेलो से, वर्ष 2014 में पुरस्कार से सम्मानित किया  गया था ।

किसान महालिंग नाइक ने कड़ी मेहनत और लगन से बंजर पथरीली जमीन को हरियाली से भर दिया

पद्म श्री के लिए चुने गए दूसरे किसान कर्नाटक दक्षिण कन्नड़ जिले के  मंगलूर 72 वर्षीय महालिंग नाइक हैं। उन्होंने अद्यानंदका में एक पहाड़ी पर दो एकड़ जमीन पर अपने खेतों के लिए पानी का काम किया है। वह कड़ी मेहनत के साथ-साथ दूरदर्शिता और पर्यावरण की एक सुंदर दृष्टि का प्रदर्शन करता है। महलिंग कभी खेतिहार मजदूर थे, जिन्होंने अपनी मेहनत के बल पर अपनी दो एकड़ पहाड़ी बंजर भूमि की सिंचाई के लिए अकेले काम किया। इस बंजर चट्टानी भूमि में अपनी मे मेहनत के दम पर उन्होंने 300 से अधिक सुपारी, 75 नारियल के पेड़, 150 काजू के पेड़, 200 केले के पौधे और काली मिर्च की बेलों का एक सुंदर कृषि फार्म विकसित किया है।

पहले उनके पहाड़ी खेत पर सूखी घास ही दिखाई देती थी। नाइक के बारे में कुछ भी असाधारण नहीं है। आसपास के इलाकों में फैली वही सूखी घास उसकी बात की पुष्टि करती हैमहालिंग पहले किसान भी नहीं थे। नारियल और सुपारी के बागों में काम करने वाले एक मेहनती और ईमानदार किसान थे। उनकी मेहनत और ईमानदारी से प्रभावित होकर आज से 50 साल पहले खेत के मालिक ने प्रसन्न होकर 2 एकड़ जमीन दे दी थी। उन्होंने वहां एक झोपड़ी बनाई और वहां अपनी पत्नी और बच्चों के साथ रहने लगे। यह जमीन एक पहाड़ी पर थी और सबसे बड़ी कठिनाई ढलान पर थी। पानी नहीं था और पानी आया भी तो रुकने की गुंजाइश नहीं थी। फसल के लिए इस जमीन पर पानी का होना बहुत जरूरी था।

नाइक के लिए पानी को रोकने के लिए पानी होना था। अब मुश्किल यह थी कि यहां पानी कैसे लाया जाए? तभी अचानक उन्हें पानी की सुरंग का ख्याल आया। क्योंकि उनका सपना था कि उनके पास एक हरा-भरा खेत हो जिस पर वह अपनी इच्छानुसार खेती कर सके। वह अकेले ही इस काम में लग गये। वह पानी के लिए बहुत मेहनत करने लगे,  लेकिन फिर भी उन्हें नहीं पता था कि, उन्हें पानी मिलेगा या नहीं। लेकिन महालिंग नाइक ने दूसरों के खेतों में काम जारी रखते हुए अपने खेत में सुरंग खोदना शुरू कर दिया क्योकि वे किसी तरह अपने खेतों में पानी लाना चाहते थे।

नाइक के ग्रामीण उन्हें कहते थे कि महालिंग व्यर्थ काम कर रहा है। लेकिन महालिंग ने ग्रामीणों की आलोचना नहीं सुनी। वह चार बार फेल हुए। सुरंग बनाई लेकिन पानी नहीं मिला लेकिन महालिंग ने हार नहीं मानी। वह असफल होने से नहीं डरे नहीं । वह लोगों से कहते रहे कि एक दिन मैं इस जगह पर इतना पानी लाऊंगा और यहां हरियाली होगी। नियति ने उसका साथ दिया। पांचवीं बार वे पानी लाने में सफल हुए। पानी आया। अब अगली जरूरत जमीन को समतल करने की थी। यह काम उन्होंने खुद किया। पांचवीं सुरंग की सफलता के बाद उन्होंने एक और सुरंग बनाई, जिसका पानी हाउस बार के काम के लिए इस्तेमाल किया जाता है। उन्होंने सुरंग के पानी को संभालने के लिए तीन टैंक बनाए हैं।

इसके बाद नाइक की ऊंची पहाड़ी खेती की मिट्टी को रोकना जरूरी हो गया था। । इस काम के लिए पत्थरों की जरूरत थी लेकिन करीब आधा किलोमीटर में कहीं भी पत्थर नहीं था।इस काम को करने के लिए कम से कम 200 आदमियों की जरूरत थी .लेकिन इस काम उन्होंने  अकेले किया।,इसके लिए वे खेतों से काम करके लौटते थे, तो हर दिन सिर पर पत्थर लेकर लौटते थे,  जिससे उन्होंने अपने सभी खेतों को घेरने के लिए हर दिन एक पत्थर जोड़ा और  इसके बाद भूस्खलन का खतरा टल गया। अपनी मेहनत और लगन के फलस्वरूप आज उन्होंने 300 से अधिक सुपारी, 75 नारियल के पेड़, 150 काजू के पेड़, 200 केले के पौधे और काली मिर्च की बेलों का एक सुंदर कृषि फार्म विकसित किया है। हैं। इसमें समय लगा, श्रम लेकिन परिणाम न केवल उनके लिए सुखद है बल्कि पूरे समाज के लिए प्रेरणा है। इस खेती में उनकी मेहनत औऱ लगन के लिए पद्मश्री से सम्मान के लिए चयन किया गया है