उत्तर प्रदेश में धान की खरीद 38 लाख टन के पार पहुंची

उत्तर प्रदेश में चालू खरीफ विपणन सत्र 2021-22 में धान की सरकारी खरीद 38 लाख टन से अधिक हो गई है। जहां बीते 28 नवंबर तक मात्र 11 लाख टन की खरीद हुई थी वही दिसंबर माह में धान खरीद में 345 फीसदी  की वृद्धि दर्ज की गई

उत्तर प्रदेश में धान की खरीद  38 लाख टन के पार पहुंची
उत्तर प्रदेश में चालू खरीफ विपणन सत्र 2021-22 में धान की सरकारी खरीद 38 लाख टन से अधिक हो गई है। प्रदेश में आने वाले  विधानसभा चुनाव से पहले यह एक बड़ी उपलब्धि है। जहां बीते 28 नवंबर तक मात्र 11 लाख टन की खरीद हुई थी वही दिसंबर माह में धान खरीद में 345 फीसदी  की वृद्धि दर्ज की गई।
राज्य सरकार के अनुसार न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के तहत अब तक पांच लाख 48 हजार किसान लाभान्वित हुए हैं जबकि लगभग 12.7 लाख  किसानों इसके लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराया है। किसानों से सीधे धान की खरीद के लिए भारतीय खाद्य निगम द्वारा संचालित केंद्रों सहित लगभग 4600 खरीद केंद्र प्रदेश में स्थापित किए गए हैं।
प्रदेश के खाद्य और नागरिक आपूर्ति आयुक्त सौरव बाबू ने बताया कि इस वर्ष ग्रेड ए और सामान्य किस्म के धान के लिए एमएसपी क्रमशः 1960 रुपए प्रति क्विंटल और 1940 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित की गई है। प्ऱदेश में आसन्न विधानसभा चुनावों के मद्देनजर सत्तारूढ़ भाजपा मतदाताओं के विभिन्न वर्गों विशेषकर किसानों को खुश करने की हरसंभव कोशिश कर रही है।
विवादास्पद केंद्रीय कृषि कानूनों के रद्द किए जाने के बाद अब योगी सरकार बहुत सावधानी बरत रही है ताकि बीजेपी को गरीब और किसान विरोधी ना चित्रित किया जा सके। इसीलिए योगी सरकार ने अधिकारियों को धान की निर्बाध खरीद सुनिश्चित करने और किसानों को एमएसपी का तत्काल भुगतान सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।
इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को मौके का निरीक्षण करने का निर्देश दिया था ताकि धान खरीद से बिचौलियों को दूर रखा जा सके जिस से किसानों को भुगतान पाने में कोई परेशानी ना हो।