प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के अंतर्गत  एनसीडीसी मत्स्य निर्यात को बढ़ावा देगा

एनसीडीसी के प्रबंध निदेशक संदीप नायक ने कहा कि फ्लैगशिप पीएमएमएसवाई ने आत्मनिर्भर भारत पैकेज के हिस्से के रूप में 20,000 करोड़ रुपये से अधिक के निवेश को निर्धारित  किया है। अनुमान है कि वर्ष 2024-25 तक भारत में मछली उत्पादन बढ़कर 22 मिलियन टन हो जाएगा और मत्स्य निर्यात आय 1,00,000 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगी

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के अंतर्गत  एनसीडीसी मत्स्य निर्यात को बढ़ावा देगा

मंगलुरु, 19 मार्च 2022

कॉपएक्सिल, सहकारी क्षेत्र निर्यात संवर्धन परिषद ने 19 मार्च 2022 को कर्नाटक के मंगलुरु में प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना (पीएमएमएसवाई) के अंतर्गत मत्स्य निर्यात संवर्धन कार्यशाला का आयोजन किया। एनसीडीसी, केंद्र सरकार के शीर्ष विकास वित्त संस्थान ने सहकारी समितियों के लक्ष्य को साकार करने के लिए भारत के सकल घरेलू उत्पाद में एक प्रमुख हिस्से का योगदान दिया है।

कार्यशाला में अपनी बात रखते हुए, एनसीडीसी के प्रबंध निदेशक संदीप नायक ने कहा कि फ्लैगशिप पीएमएमएसवाई ने आत्मनिर्भर भारत पैकेज के हिस्से के रूप में 20,000 करोड़ रुपये से अधिक के निवेश को निर्धारित  किया है। अनुमान है कि वर्ष 2024-25 तक भारत में मछली उत्पादन बढ़कर 22 मिलियन टन हो जाएगा और मत्स्य निर्यात आय 1,00,000 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगी।

कार्यशाला में मछुआरों, सहकारी संस्थानों, मछली प्रसंस्करणकर्ताओं, मछली निर्यातकों, सरकारी निकायों, शैक्षणिक और अनुसंधान संस्थानों का प्रतिनिधित्व करने वाले व्यापक वर्गों के हितधारकों द्वारा हिस्सा लिया गया।  सहकार भारती के पदाधिकारियों ने भी कार्यशाला के आयोजन में एनसीडीसी के साथ भागीदारी की ।  सहकार भारती के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश वैद्य ने क्षेत्र की मत्स्य सहकारी समितियों की क्षमता को मुख्य धारा में लाने के एनसीडीसी के प्रयासों की सराहना की।

केंद्र सरकार के मत्स्य विभाग के अधिकारियों ने मत्स्य निर्यात में बनाए गए सहायक इकोसिस्टम पर प्रकाश डाला।  कार्यशाला के दौरान चर्चा में समुद्री खाद्य निर्यात, निर्यात प्रोत्साहन के लिए बुनियादी ढांचा समर्थन, निर्यात के लिए गहरे समुद्र में मछली पकड़ने और निर्यात के लिए गुणवत्ता मानकीकरण के मुद्दे शामिल थे। डॉ. राजीव रंजन, पूर्व सचिव (मत्स्य पालन), केंद्र सरकार और वर्तमान में एनसीडीसी में वरिष्ठ सलाहकार ने मुख्य वक्तव्य दिया।  चर्चा में महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा और कर्नाटक राज्यों और एनएफडीबी, सीएमएफआरआई जैसे केंद्रीय संगठनों के विशेषज्ञों ने काफी योगदान दिया।  कॉलेज ऑफ फिशरीज, मंगलुरु के विशेषज्ञों ने भी भाग लिया।

कार्यशाला के माध्यम से, क्षेत्र में बाधाओं को चिह्नित किया गया और विभिन्न स्तरों पर आवश्यक हस्तक्षेपों की रूपरेखा तैयार की गई। ब्रांड विकास, लीवरेजिंग नेटवर्क, मार्केट इंटेलिजेंस, संयुक्त उद्यम, जलीय कृषि में ऊर्ध्वाधर और क्षैतिज विस्तार, नई प्रौद्योगिकियों की शुरूआत, सर्वोत्तम प्रथाओं के आदान-प्रदान आदि जैसे अन्य मुद्दों पर प्रकाश डाला गया।

कार्यशाला के दौरान एनसीडीसी और मत्स्य पालन कॉलेज, मंगलुरु के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए कॉपएक्सिल द्वारा आयोजित की जा रही मत्स्य निर्यात कार्यशालाओं की श्रृंखला का उद्देश्य मत्स्य निर्यात में वृद्धि के लिए एक रूपरेखा रोड मैप तैयार करना है।