15 नवंबर तक 20 लाख टन चीनी उत्पादन पिछले साल से 25 फीसदी अधिक

देश के दक्षिण और पश्चिमी क्षेत्र में चीनी मिलों का गन्ना पेराई सत्र जल्दी शुरू होने की वजह से मौजूदा गन्ना पेराई सत्र में देश का चीनी उत्पादन 15 नवंबर तक 20 लाख टन को पार करने के साथ ही पिछले साल की तुलना में रह 25 फीसदीअधिक है

15 नवंबर तक  20  लाख टन  चीनी उत्पादन पिछले साल से 25 फीसदी  अधिक

देश के दक्षिण और पश्चिमी क्षेत्रों में चीनी मिलों का गन्ना पेराई  सत्र जल्दी शुरू होने के वजह से  मौजूदा 2021-22 गन्ना पेराई सत्र में भारत का चीनी उत्पादन में 15 नवंबर तक 20 लाख टन  को पार कर गया है जो  पिछले साल की तुलना में इस  25 फीसदी अधिक है ।

इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) के अनुसार इस साल चीनी उत्पादन 20.1 लाख टन तक पहुंच गया है,जबकि  पिछले साल 15 नवंबर, तक 16.8 लाख टन था। साल 2020 में 289 चीनी मिलों के संचालन के मुकाबले इस साल 308 चीनी मिलो ने पहले ही इस सीजन में पेराई शुरू कर दिया है। जिससे चीनी उत्पादन बढ़ाने में मदद मिली है।

हालांकि,अक्टूबर 2021 के तीसरे सप्ताह में बेमौसम बारिश के कारण देश के अग्रणी चीनी उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश में पेराई सत्र में कुछ दिनों की देरी हुई। 2020-21 में 4 लाख टन की तुलना में 15 नवंबर तक इस साल उत्पादन में इस की 2 लाख 80 हजार टन का उत्पादन ही हुआ है इस तरह, राज्य में 28 फीसदी उत्पादन की गिरावट दर्ज की गई। है । इस साल राज्य में 76 मिलों की तुलना में 74 मिलें चली हैं, । इसके विपरीत, गन्ना उत्पादक राज्य महाराष्ट्र और कर्नाटक में पेराई अक्टूबर 2021 के दूसरे सप्ताह में अच्छी तरह से शुरू हुई, जिसके नतीजन मजबूत उत्पादन हुआ।

महाराष्ट्र में,134 चीनी मिलों ने परिचालन शुरू कर दिया है, पिछले सीजन की इसी अवधि में संचालित 120 मिलों की तुलना में 8 लाख 91 हजार टन चीनी का उत्पादन किया और 6 लाख टन का उत्पादन किया है। कर्नाटक में15 नवंबर तक 63 मिलें परिचालन में थीं और 60 मिलों की तुलना में 7 लाख 62,हजार टन उत्पादन किया, जो पिछले साल इस समय तक 5 लाख 66,हजार टन के उत्पादन हुआ था। इसके अलावा, गुजरात, उत्तराखंड, बिहार, हरियाणा, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु और तेलंगाना राज्यों में, लगभग 37 चीनी मिलों ने परिचालन शुरू कर दिया है और उन्होंने अब तक डेढ लाख टन  का उत्पादन किया है।

अब  तक 25 लाख टन चीनी के निर्यात  अनुबंध किए जा चुके हैं। इसमें से 2 लाख 70 हजार टन चीनी  का अक्टूबर 2021 में निर्यात किया गया है, जबकि पिछले साल इसी महीने में 1 लाख 96,हजार  टन का निर्यात किया गया था। इस्मा ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा,  कि नवंबर  2021 तक  2 लाख टन चीनी का निर्यात किया जाना है।

 तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) द्वारा 2021-22 इथेनॉल आपूर्ति वर्ष के लिए 4.59 बिलियन लीटर इथेनॉल की वार्षिक मांग के अनुसार 4.14 बिलियन लीटर के लिए ईओआई  आए हैं।इस्मा ने बताया, "बोलियों की जांच की जा रही है और जल्द ही समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे।