एनसीडीसी ने मनाया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि समस्त विश्व में तबाही मचाने वाली कोविड-19 महामारी के बीच योग सभी के लिए आशा की किरण है क्योंकि यह न केवल शारीरिक स्वास्थ्य सुनिश्चित करता है बल्कि हमें तनावपूर्ण और चिंताजनक समय में मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखता है

एनसीडीसी ने मनाया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

नई दिल्ली, 21 जून,2021

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर सोमवार को कहा कि समस्त विश्व में तबाही मचाने वाली कोविड-19 महामारी के बीच योग सभी के लिए आशा की किरण है क्योंकि यह न केवल शारीरिक स्वास्थ्य सुनिश्चित करता है बल्कि हमें तनावपूर्ण और चिंताजनक समय में मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखता है।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम (एनसीडीसी) द्वारा आयोजित एक ऑनलाइन कार्यक्रम में बोलते हुए कृषि मंत्री ने कहा कि हर साल 21 जून को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जाता है जिन्होंने वर्ष 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में इसके संबंध में प्रस्ताव पेश किया था। उन्होंने कहा किदुनिया भर के 175 से अधिक देशों द्वारा इसके पक्ष में एक प्रस्ताव पारित करने के बाद इसे सभा द्वारा अपनाया गया था।

“योग एक शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक अभ्यास है जो लोगों को कोविड -19 की पृष्ठभूमि में एक स्वस्थ जीवन शैली जीने में मदद कर रहा है। महामारी न केवल लोगों के शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर रही है बल्कि प्रतिबंधित जीवन जीने को मजबूर लोगों के मनोवैज्ञानिक और मानसिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर रही है।”

उन्होंने कहा, " इसलिए यह समझना जरूरी है कि खुद को मानसिक रूप से स्वस्थ रखना बेहद आवश्यक है । जब हम मानसिक रूप से फिट होते हैं तो हम किसी भी संकट से अच्छे से निपट सकते हैं। कोविड-19 के बीच योग हम सभी के लिए आशा की किरण है।"  उन्होंने आगे कहा कि यह हमारे मानसिक स्वास्थ्य को मजबूत करते हुए हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने, बीमारियों से लड़ने में मदद करता है।

कृषि मंत्री ने ग्रामीण भारत पर ध्यान आकृष्ट करने के साथ पिछले साल शुरू की गई एनसीडीसी की आयुष्मान सहकार योजना के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा कि यह एक अनूठी योजना है जिसका उद्देश्य देश भर में विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्र में स्वास्थ्य की बुनियादी सुविधाओं में सुधार करना है। अगले कुछ वर्षों में लाभार्थियों तक पहुंचने के लिए योजना के तहत 10,000 करोड़ रुपये का ऋण दिया जाएगा।

स्वामी विवेकानंद योग अनुसंधान संस्थान (एस-व्यास) बेंगलुरू के कुलपति गुरुजी डॉ एच.आर. नागेंद्र ने बताया कि कैसे योग ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के लिए जागरूकता, आत्म-जागरूकता और कई अन्य स्वास्थ्य लाभ लाने में मदद कर सकता है जहां वायरस ने तबाही मचाई है। लोगों को संक्रमित किया है और कई लोगों की जान ली है।

मास्क के उपयोग और सामाजिक दूरी के मानदंडों जैसे कोविड-19 के उचित व्यवहार को अपनाने की आवश्यकता पर जोर देते हुए उन्होंने वायरस से लड़ने के लिए शरीर की प्रतिरक्षा में सुधार करने के लिए रोजाना कम से कम आधे घंटे योग अभ्यास करने की सलाह दी।

उन्होंने कहा, "हमने देखा है कि वर्तमान में यह कहने के लिए कुछ हद तक साक्ष्य हैं कि योग अभ्यास शरीर को बहुत आवश्यक प्रतिरक्षा प्रदान कर सकता है और शरीर के लिए एक रोग-मुक्त होमियोस्टैटिक स्थिति का आश्वासन दे सकता है।" उन्होंने कहा कि कोविड -19 महामारी के दौरान हर किसी को अपने परिवार के सदस्यों के साथ घर पर रहने का एक शानदार अवसर मिला जो दो साल पहले भागदौड़ भरे व्यस्त जीवन में संभव नहीं था।

इस अवसर पर एनसीडीसी के प्रबंध निदेशक संदीप नायक ने कहा कि महामारी के दौरान योग का महत्व बढ़ गया है और यह लोगों को स्वस्थ, धनवान और बुद्धिमान बनाने में मदद करेगा। एनसीडीसी की पहल के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि निगम ने देश भर के अपने कर्मचारियों और सहकारी समितियों के सदस्यों के लिए 14 जून से सप्ताह में तीन बार दो महीने का योग सत्र ऑनलाइन शुरू किया है।

उन्होंने कहा कि योग सत्र पिछले साल एनसीडीसी और एस-व्यास के बीच हुए समझौते के तहत आयोजित किया जा रहा है। समझौते के अनुसार  दोनों संगठन स्थानीय सहकारिता की मदद से पूरे देश में संयुक्त रूप से योग स्वास्थ्य केंद्र और प्राकृतिक चिकित्सा सुविधाएं स्थापित करने पर सहमत हुए हैं।

इससे पूर्व, लक्ष्मणराव इनामदार राष्ट्रीय सहकारिता अनुसंधान एवं विकास अकादमी (लिनाक)-एनसीडीसी के मुख्य निदेशक लेफ्टिनेंट कर्नल बलजीत सिंह ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि योग भारत की प्राचीन प्रणाली में गहरी जड़ें जमा चुका है और कोविड -19 संकट के कारण दैनिक जीवन में अशांति की दृष्टि से इसकी भूमिका और भी महत्वपूर्ण हो गई है।

वर्चुअल कार्यक्रम के दौरान, एस-व्यास के योग गुरु पवन सिंह ने एनसीडीसी मुख्यालय और इसके क्षेत्रीय कार्यालयों के साथ-साथ देश भर की सहकारी समितियों का प्रतिनिधित्व करने वाले कई प्रतिभागियों के लाभ के लिए योग कक्षाएं आयोजित कीं।