वर्ल्ड कोआपरेटिव मॉनीटर की रिपोर्ट में इफको शीर्ष सहकारी संस्था घोषित

इंडियन फारमर्स फर्टिलाइजर कोआपरेटिव लिमिटेड (इफको) को लगातार दूसरे वर्ष दुनिया की शीर्ष 300 सहकारिताओं में पहला स्थान मिला है। यह रैंकिंग प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) पर कारोबार के अनुपात पर आधारित है। इंटरनेशनल कोआपरेटिव एलायंस की 10वीं वार्षिक वर्ल्ड कोआपरेटिव मॉनीटर रिपोर्ट के 2021 संस्करण के अनुसार यह देश के सकल घरेलू उत्पाद एवं आर्थिक विकास में इफको के कारोबारी योगदान को दर्शाता है

वर्ल्ड कोआपरेटिव मॉनीटर की रिपोर्ट में  इफको शीर्ष सहकारी संस्था घोषित

नई दिल्ली, 2 दिसम्बर 2021

इंडियन फारमर्स फर्टिलाइजर कोआपरेटिव लिमिटेड (इफको) को लगातार दूसरे वर्ष दुनिया की शीर्ष 300 सहकारिताओं में पहला स्थान मिला है। यह रैंकिंग प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) पर कारोबार के अनुपात पर आधारित है। यह दर्शाता है कि इफको राष्ट्र के सकल घरेलू उत्पाद और आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है। इंटरनेशनल कोआपरेटिव एलायंस की 10वीं वार्षिक वर्ल्ड कोआपरेटिव मॉनीटर रिपोर्ट के 2021 संस्करण के अनुसार यह देश के सकल घरेलू उत्पाद एवं आर्थिक विकास में इफको के कारोबारी योगदान को दर्शाता है। कुल कारोबार के मामले में इफको पिछले वित्तीय वर्ष के अपने 65वें स्थान के मुकाबले 60वें स्थान पर पहुंच गई है।
इफको के प्रबंध निदेशक डॉ. उदय शंकर अवस्थी ने कहा कि "यह इफको और भारतीय सहकारिता आंदोलन के लिए गौरव का क्षण है। इफको में, हम किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य के लिए प्रतिबद्ध हैं, ताकि देश भर के किसानों का विकास सुनिश्चित हो सके और सहकारी आंदोलन को मजबूत किया जा सके। हम नवाचार में विश्वास करते हैं क्योंकि यही सफलता की कुंजी है। इस क्रम में हम कृषि क्षेत्र के विकास हेतु नैनो तकनीक आधारित ‘इफको नैनो यूरिया तरल’ से शुरू करते हुए अन्य वैकल्पिक उर्वरक ला रहे हैं। भारतीय किसानों द्वारा ‘इफको नैनो यूरिया तरल’ का जोरदार स्वागत किया गया है जिससे हमारा संकल्प और मजबूत हुआ है। हम जल्द ही इफको नैनो डीएपी और नैनो तकनीक आधारित अन्य उत्पादों को लॉन्च करेंगे। इस महत्वपूर्ण उपलब्धि पर मैं इफको और देश की पूरी सहकारी बिरादरी को बधाई देता हूँ।"
इस रिपोर्ट में इफको को मिला स्थान ‘मेक इन इंडिया’ परियोजना को बढ़ावा देने तथा ‘आत्मानिर्भर भारत और आत्मानिर्भर कृषि’ के सपने को साकार करने की दिशा में भारतीय सहकारिता के उत्साहजनक कदम को दर्शाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के ‘सहकार से समृद्धि’ के ध्येय से प्रेरणा लेते हुए इफको नैनो तकनीक आधारित ‘इफको नैनो यूरिया तरल’ के सफल लॉन्च के साथ नवाचार के पथ पर अग्रसर है। नैनो यूरिया तरल एक ऐसा उत्पाद है जिसमें परंपरागत कृषि के तरीकों में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने की क्षमता है। नवगठित केंद्रीय सहकारिता मंत्रालय के मंत्री अमित शाह से मिल रहे सहयोग और समर्थन से हमारे प्रयासों को गति मिली है। ‘नैनो डीएपी’ और अन्य नवोन्मेषी उत्पादों के साथ, इफको वैश्विक सहकारी मंच पर अपनी उपस्थिति को और भी अधिक मजबूत करते हुए पहले से अधिक प्रभावशाली भूमिका निभा रहा है। इफको की रैंकिंग में हुआ सुधार इसका परिचायक है।
इंटरनेशनल कोऑपरेटिव एलायंस  और यूरोपियन रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑन कोऑपरेटिव एंड सोशल एंटरप्राइजेज ने आज एक अंतरराष्ट्रीय वेबिनार के दौरान वर्ल्ड कोऑपरेटिव मॉनिटर का 2021 संस्करण जारी किया। यह 10वीं वार्षिक रिपोर्ट है जो दुनिया भर की सबसे बड़ी सहकारिताओं और उनके आर्थिक और सामाजिक प्रभाव की पड़ताल करने के साथ-साथ शीर्ष 300 सहकारिताओं की रैंकिंग, सेक्टर रैंकिंग और वर्तमान वैश्विक चुनौतियों : कोविड और जलवायु परिवर्तन के प्रति प्रतिक्रिया का विश्लेषण करती है।