चीनी मिल 10 फीसदी इथेनॉल ईधन सम्मिश्रण हासिल करने के लिए पूरी तरह अग्रसर

घरेलू चीनी उद्योग चालू साल 2021-22 में 10 फीसदी एथेनॉल मिश्रण का लक्ष्य हासिल करने को लेकर काफी सकरात्मक है।10 फीसदी सम्मिश्रण के लिए इथेनॉल की 4.59 बिलियन लीटर (बीएल) के कुल जरूरत के मुकाबले ऑयल मार्केटिग कंपनियों ने (ओएमसी) एक्सप्रेसन ऑफ इंट्रेस्ट के पहले दो चक्रो के बाद अभी तक 3.66 बिलियन लीटर आवंटित किया है ।

चीनी मिल 10 फीसदी इथेनॉल ईधन सम्मिश्रण हासिल करने के लिए पूरी तरह अग्रसर

घरेलू चीनी उद्योग चालू  साल 2021-22 में 10 फीसदी  एथेनॉल मिश्रण का लक्ष्य हासिल करने को लेकर काफी सकरात्मक है। 10 फीसदी सम्मिश्रण के लिए इथेनॉल की 4.59 बिलियन लीटर (बीएल) के कुल जरूरत  के मुकाबले ऑयल मार्केटिग कंपनियों ने (ओएमसी) एक्सप्रेसन ऑफ इंट्रेस्ट के पहले दो चक्रो के बाद अभी तक 3.66 बिलियन लीटर आवंटित किया है ।सोमवार को इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) ने कहा, "हमें चालू वर्ष में 10 फीसदी  ईधन सम्मिश्रण हासिल करने की उम्मीद है क्योंकि शेष आवश्यकता को बाद के ईओआई में आवंटित किया जाएगा

30 नवंबर 2021 को समाप्त होने वाले 2020-21 इथेनॉल सप्लाई ईयर  (इसआई) में, भारत में डिस्टिलरीज द्वारा लगभग 3.02 बीएल की आपूर्ति की गई है जिससे 8.1फीसदी का अखिल भारतीय औसत सम्मिश्रण प्राप्त हुआ है। इस्मा ने कहा, “यह अपने आप में बडा रिकार्ड है  क्योकि 2019-20 में केवल 5 फीसदी इथेनॉल ब्लेडिंग हासिल हुई

इस बीच, भारत में चीनी मिलों ने, 15 दिसंबर तक, 2020-21 गन्ना सीजन में (अक्टूबर-सितंबर) की  किए गए 73.3लाख  टन उत्पादन की तुलना में इस साल का अवधि में 78 लाख टन (एमटी) चीनी का उत्पादन किया है । पश्चिमी राज्यों  में गन्ने की पेराई जल्दी शुरू होने के कारण चालू वर्ष उत्पादन अधिक है।

देश के शीर्ष चीनी उत्पादक  राज्य उत्तर प्रदेश में 117 मिलें चालू हैं और उन्होंने 2 मीट्रिक टन चीनी का उत्पादन किया है। महाराष्ट्र में, 186 चीनी मिलों ने 3.2 मीट्रिक टन का उत्पादन किया है। जबकि तीसरे सबसे बड़े उत्पादक कर्नाटक ने 1.84 मीट्रिक टन चीनी का उत्पादन किया है।

बाजार की रिपोर्ट और ट्रेडिग हाऊस से एकत्र किए गए आंकड़ों का हवाला देते हुए, इस्मा ने बताया कि पिछले साल निर्यात किए गए 3 लाख टन की तुलना में चालू सीजन में नवंबर 2021 के अंत तक 6.5लाख टन चीनी का भौतिक रूप से निर्यात किया गया था।

इसके अलावा, चालू चीनी मौसम में 37 लाख टन चीनी निर्यात के अनुबंधों का अनुबंध किया गया है। इनमें से अधिकांश अनुबंधों पर तब हस्ताक्षर किए गए थे जब वैश्विक स्तर पर चीनी की कीमतें कच्ची चीनी के प्रति पाउंड 20-21 सेंट के दायरे में थीं।

कच्चे चीनी की वैश्विक स्तर की  कीमतों में लगभग 19 सेंट/पाउंड की गिरावट के कारण आगे के निर्यात अनुबंधों पर हस्ताक्षर धीमा हो गया है। हालांकि, अब वैश्विक स्तर कीमतों में कुछ हद तक सुधार हुआ है, जो 19.5 सेंट/पाउंड के आसपास  आ गया है, फिर भी भारतीय चीनी के लिए निर्यात अभी भी अव्यावहारिक लगता है।

इस्मा के अनुसार,चूंकि चालू सीजन में अभी  9 महीने से अधिक समय बचा है इसलिए मिलों के पास अभी भी एक उपयुक्त वक्त  आने इंतजार करने का समय है जब वे कच्चे चीनी की कीमतों में उछाल आने के बाद निर्यात अनुबंध कर सकते हैं।