फसल में बीमारी फैलने से लाल मिर्च के दाम तीन सप्ताह में 30 फीसदी बढ़ेः आरकेपीए

लाल मिर्च की फसल पर नए कीट 'थ्रिप्स' की समस्या सबसे पहले 2020 में तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में देखी गई थी। अक्टूबर 2021 तक यह बीमारी बहुत अधिक बढ़ गई थी। इस समस्या के चलते तेलंगाना और गुंटूर के कई बाजारों में पिछले दो से तीन सप्ताह में लाल मिर्च के दाम 30 फीसदी तक बढ़ गए हैं। 'थ्रिप्स पर जल्द से जल्द अंकुश लगाने की जरूरत है। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में सक्रिय किसान संगठन आरकेपीए ने बातें कही हैं

फसल में बीमारी फैलने से लाल मिर्च के दाम तीन सप्ताह में  30 फीसदी बढ़ेः आरकेपीए

किसानों के संगठन राष्ट्रीय किसान प्रगतिशील संघ (आरकेपीए) ने कहा है कि बॉटनिकल और केमिकल कीटनाशकों के परीक्षण के दौरान पाया गया कि लाल मिर्च की फसल पर थ्रिप्स के हमले पर लगाम लगाने के लिए स्पिनोसेड 0.015% का उपयोग कारगर है। इनकी सही मात्रा के उपयोग से लाल मिर्च की फसल को थ्रिप्स के हमले से बचाया जा सकता है। कीटों को नियंत्रित करने के लिए फसल के शुरुआती दौर में उचित कीटनाशकों का इस्तेमाल किया जाना चाहिए ताकि क्षेत्र में लाल मिर्च उगाने वाले किसानों को कोई आर्थिक नुकसान न हो। आरकेपीए द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में यह बातें कही गई हैं।

आरकेपीए का कहना है किसानों को आर्थिक नुकसान न हो इसके लिए जरूरी है कि मिट्टी और खेत को ध्यान में रखते हुए उचित मात्रा में कीटनाशकों का प्रयोग किया जाए। फसलों में सही मात्रा और सही गुणवत्ता के अलावा कीटनाशकों के प्रयोग का समय भी बहुत महत्वपूर्ण होता है। इन सभी कारको को ध्यान में रखकर थ्रिप्स पैराविस्पिनस जैसे कीट पर नियंत्रण पाया जा सकता है। आरकेपीए द्वारा राष्ट्रीय युवा दिवस के मौके पर एक सम्मेलन आयोजित किया गया जिसमें वक्ताओं ने कहा कि ड्रोन, रोबोटिक्स और एआई जैसी आधुनिक तकनीकों के इस्तेमाल से यहां तक ​​कि कीटनाशकों का भी समान रूप से छिड़काव किया जा सकता है। लाल मिर्च की फसल पर नए कीट 'थ्रिप्स' की समस्या सबसे पहले 2020 में तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में देखी गई थी। अक्टूबर 2021 तक कीड़ों की आबादी इतनी बढ़ गई कि ये कीड़े फसल के फूलों को पूरी तरह से खाने लगे। कीटों के हमले के कारण फूल फल नहीं बन पाता है जिससे फसल की उत्पादकता में भारी गिरावट आती है।

इस समस्या के चलते तेलंगाना और गुंटूर के कई बाजारों में पिछले दो से तीन सप्ताह में लाल मिर्च के दाम 30 फीसदी तक बढ़ गए हैं। 'थ्रिप्स पर जल्द से जल्द अंकुश लगाने की जरूरत है, जिससे लाल मिर्च की फसल को भारी नुकसान हो रहा है और फसल में लीफ कर्ल रोग का मुख्य कारण बना हुआ है। यदि इन कीटों को नियंत्रित नहीं किया गया, तो निकट भविष्य में फसलों की उत्पादकता 30 से 50 प्रतिशत तक कम हो सकती है, जो कि किसानों के लिए बहुत बड़ा नुकसान होगा।

यह नया आक्रामक कीट दोनों राज्यों के कई जिलों में लाल मिर्च की फसल को भारी नुकसान पहुंचा रहा है। यह कीट फूल आने पर फसल पर हमला करता है, जिससे फसल का विकास ठीक से नहीं हो पाता है। हाल के महीनों में हुई भारी बारिश से यह समस्या और भी गंभीर हो गई है। कीटों के कारण फसल की उत्पादकता अच्छी नहीं होने से किसान चिंतित हैं। उनकी समस्या को हल करने के लिए, आरकेपीए ने कहा कि बीज, उर्वरक और उपयुक्त कीटनाशकों की उचित मात्रा जैसे सही कृषि आदानों का उपयोग करके समस्या का समाधान किया जा सकता है। भारत में किसानों को दोहरी समस्या का सामना करना पड़ता है। एक ओर जहां बाजार में उपलब्ध कीटनाशक नकली हैं, वहीं दूसरी ओर किसानों को अपनी फसलों की रक्षा के लिए कृषि रसायनों के उचित उपयोग के बारे में जानकारी नहीं है।

इस अवसर आरकेपीए ने दो प्रमुख राज्यों आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के मिर्च उत्पादकों को एकजुट होने की सलाह दी। एसोसिएशन ने उनसे ऐसे नियामक तत्वों के खिलाफ एकजुट होने और अभियान चलाने का आग्रह किया जो उन्हें उच्च गुणवत्ता वाले कृषि इनपुट से किसानों को वंचित कर रहे हैं। साथ ही किसानों को 'थ्रिप्स पैराविस्पिनस' जैसे आक्रामक कीटों से निपटने के लिए आधुनिक कृषि तकनीकों का उपयोग करने की सलाह दी गई।