कृषि और संबंधित क्षेत्रों में हो रहा डेढ़ लाख करोड़ रुपए का निवेशः नरेंद्र सिंह तोमर

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि इसका उपयोग राज्य सरकारों और बैंकों को मिलकर कृषि क्षेत्र के विकास में करना चाहिए। राज्यों के लिए यह बहुत अच्छा अवसर है। राज्य सरकारें अपने यहां किसानी को मजबूत व समृद्ध बनाने में इसका उपयोग करें

कृषि और संबंधित क्षेत्रों में हो रहा डेढ़ लाख करोड़ रुपए का निवेशः नरेंद्र सिंह तोमर

कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा है कि देश में कृषि उत्पादकता और निर्यात बढ़ाने, कृषि क्षेत्र में रोजगार के अवसर पैदा करने और इसे नई पीढ़ी के लिए आकर्षक बनाने के उद्देश्य से एग्रीकल्चर इंफ्रा फंड लाया गया है। उन्होंने बताया कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत कृषि और इससे संबंधित क्षेत्रों में डेढ़ लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का निवेश हो रहा है। इसका उपयोग राज्य सरकारों और बैंकों को मिलकर कृषि क्षेत्र के विकास में करना चाहिए। राज्यों के लिए यह बहुत अच्छा अवसर है। राज्य सरकारें अपने यहां किसानी को मजबूत व समृद्ध बनाने में इसका उपयोग करें। तोमर ‘एग्रीकल्चर इन्फ्रा फंड’ की उपलब्धि विषय पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि भारत के लिए कृषि क्षेत्र महत्वपूर्ण है। कृषि की प्रधानता ने समय-समय पर खुद को साबित भी किया है। कृषि ने कोविड महामारी के समय भी देश को संकट से उबारने में मदद की और अर्थव्यवस्था में भी उल्लेखनीय योगदान किया है। कृषि उत्पादों की दृष्टि से आज भारत दुनिया के अग्रणी देशों में शामिल हैं। इस क्षेत्र में आगे बढना है तो चुनौतियों को पहचान कर उस पर विजय प्राप्त करनी होगी।

उन्होंने कहा, देश में 86 फीसदी छोटे किसान हैं, जिनके पास दो हेक्टेयर से कम भूमि है। वहीं देश की 55 से 69 फीसदी आबादी कृषि पर निर्भर है। ऐसे में कृषि क्षेत्र को उन्नत बनाने के लिए सरकार आठ वर्षों से लगातार प्रयास कर रही है। बैंक सरल ऋण की सुविधा दे रहे हैं। इसके साथ ही किसानों के लिए 10 हजार एफपीओ बनाने का काम किया जा है ताकि खेती का रकबा बढ़े, उत्पादन की गुणवत्ता में सुधार हो और किसानों को उनकी उपज की अच्छी कीमत मिल सके।

कार्यक्रम में भाग लेने वाले बैंकर्स, राज्य सरकारों तथा संबंधित संस्थाओं को पूसा, नई दिल्ली में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने पुरस्कृत किए। कार्यक्रम में राज्यमंत्री कैलाश चौधरी, सचिव मनोज आहूजा,अतिरिक्त सचिव सहित कई वरिष्ठ अधिकारी और विभिन्न बैंकों एवं राज्य सरकारों के अधिकारी मौजूद थे।