उत्तराखंड में भाजपा की वापसी पर धामी हारे, मणिपुर और गोवा में भी पार्टी सरकार बनाने के करीब

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत लाल कुआं में भाजपा के मोहन बिष्ट से हारे। आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार अजय कोठियाल भी पीछे

उत्तराखंड में भाजपा की वापसी पर धामी हारे, मणिपुर और गोवा में भी पार्टी सरकार बनाने के करीब

उत्तराखंड के 21 साल के इतिहास में पहली बार कोई पार्टी लगातार दूसरी बार सत्ता में आएगी। नतीजों से साफ है कि यहां मोदी लहर चली और उसके सामने लोग स्थानीय मुद्दे भूल गए। भाजपा का टिकट नहीं मिलने पर जो नेता बागी होकर लड़ रहे थे, वे भी हार गए। लेकिन मौजूदा मुख्यमंत्री के हारने का सिलसिला इस बार भी जारी रहा और पुष्कर सिंह धामी खटीमा से हार गए। सरकार बनाने के सपने देख रही कांग्रेस के लिए इससे बुरा और क्या होगा कि उसके नेता हरीश रावत खुद अपनी सीट नहीं बचा सके।

शाम 5.05 बजे तक मतगणना के रुझानों के अनुसार भाजपा को यहां बहुमत मिलता दिख रहा है। पार्टी के प्रत्याशी 15 सीटें जीत चुके थे और 32 सीटों पर आगे थे। अगर यही रुझान अंत तक रहा तो उसे 10 सीटों का नुकसान होगा। कांग्रेस ने चार सीटें जीती हैं और 15 पर आगे है। उसे पिछली बार के मुकाबले आठ सीटें ज्यादा मिलेंगी। बहुजन समाज पार्टी दो और निर्दलीय दो सीटों पर आगे हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को 57 और कांग्रेस को 11 सीटें मिली थीं। राज्य विधानसभा में 70 सीटें हैं।

प्रमुख उम्मीदवारों में लाल कुआं से हरीश रावत हार चुके हैं। उन्हें भाजपा के मोहन सिंह बिष्ट ने हराया है। आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार अजय कोठियाल भी पीछे हैं। वरिष्ठ भाजपा नेता सुबोध उनियाल नरेंद्र नगर सीट पर कांग्रेस के ओम गोपाल रावत से पीछे हैं। चुनाव से पहले भाजपा छोड़कर कांग्रेस में वापसी करने वाले यशपाल आर्य भी बाजपुर सीट पर भाजपा के राजेश कुमार से पीछे हैं।

यहां भाजपा को 44.08 फीसदी, कांग्रेस को 38.95 फीसदी, बसपा को 4.63 फीसदी और आम आदमी पार्टी को 3.46 फीसदी वोट मिले हैं।

गोवा

गोवा में भारतीय जनता पार्टी लगातार तीसरी बार सरकार बनाने के करीब है। दोपहर 3.50 बजे तक के मतगणना के रुझानों के मुताबिक सत्तारूढ़ पार्टी 14 सीट जीत चुकी थी और छह सीटों पर आगे थी। कांग्रेस को भी 5 सीटों पर जीत मिली और 6 जगहों पर उसके उम्मीदवार  आगे चल रहे थे। गोवा विधानसभा में कुल 40 सीटें हैं। हालांकि मुख्यमंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता प्रमोद सावंत सैंक्वेलिम विधानसभा सीट पर कांग्रेस के धर्मेश सगलानी से पीछे चल रहे थे। महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी दो सीटों पर आगे चल रही थी। आम आदमी पार्टी एक सीट जीत चुकी है और एक पर आगे है, गोवा फॉरवर्ड पार्टी एक सीट जीत चुकी है। चार जगहों पर निर्दलीय और अन्य उम्मीदवार जीते।

यहां के दोनों उपमुख्यमंत्री चुनाव हार चुके हैं। मनोहर अजगांवकर को विपक्ष के नेता और कांग्रेस प्रत्याशी दिगंबर कामत ने मारगाओ में करीब छह हजार मतों से हराया। पूर्व मुख्यमंत्री कामत मारगाओ में 1994 से जीतते आए हैं। दूसरे उप मुख्यमंत्री चंद्रकांत कवलेकर क्यूपेम में कांग्रेस के एल्टोन डिकोस्टा से हार गए। डिकोस्टा पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं।

मणिपुर

60 विधानसभा सीटों वाले मणिपुर में भारतीय जनता पार्टी दोबारा सरकार बनाएगी। चुनाव आयोग की तरफ से जारी शाम 5.10 बजे तक के रुझानों के मुताबिक भाजपा के प्रत्याशी 15 सीटें जीत चुके थे और 14 सीटों पर आगे चल रहे थे। नगा पीपुल्स फ्रंट पांच और नेशनल पीपुल्स पार्टी सात सीटों पर आगे थी या जीत चुकी थी। भाजपा ने 2017 में इन दोनों पार्टियों के साथ मिलकर सरकार बनाई थी। कांग्रेस ने तीन सीटें जीती हैं और एक पर उसे बढ़त है। जनता दल यूनाइटेड पांच सीटें जीत चुकी है और दो पर आगे चल रही है। कुकी पीपुल्स एलायंस एक सीट जीतक एक पर आगे है। निर्दलीय दो सीट जीत चुके हैं और एक पर आगे चल रहे हैं।